Friday, 1 July 2011

आरयूआईडीपी के अफसरों के खिलाफ भ्रष्टाचार का मामला दर्ज

               बीसलपुर पेयजल परियोजना में ठेकेदार फर्म एल एंड टी को आपराधिक षड्यंत्र के तहत ढाई करोड़ रुपए से ज्यादा राशि का अधिक भुगतान करने पर  राजस्थान अरबन इन्फ्रास्टक्चर डवलपमेंट प्रोजेक्ट (आरयूआईडीपी) के इंजीनियरों और अफसरों के खिलाफ भ्रष्टाचार का मामला दर्ज किया है।
                जिन लोगों के खिलाफ मामला दर्ज किया गया है, उनमें तत्कालीन मुख्य अभियंता मदनलाल, वरिष्ठ लेखाधिकारी सतीश गोयल, अधीक्षण अभियंता अरुण कुमार जोशी, अधिशासी अभियंता एस.के. सोनी, सहायक अभियंता हुकुमचंद अग्रवाल, कनिष्ठ अभियंता दिनेश गुप्ता, सहायक लेखाधिकारी भरतसिहं, कनिष्ठ लेखाकार सुनील गोयल हैं।
             एल एंड टी कंपनी को इस काम का ठेका वर्ष 2006 में दिया गया था। इन अफसरों ने कंपनी के अधिकारियों से सांठगांठ करके अनुबंध की निर्धारित अवधि में कार्य करने पर अंडेंडम नं. 2 के फार्मूले से भुगतान कर दिया, जबकि यह भुगतान अंडेडम नं. 6 के अनुसार किया जाना था। पॉवर गेलेरी के पॉवरफुल अफसरों का कहना है कि कंपनी से इस राशि की वसूली हो जाएगी। इंजीनियरों का कुछ नहीं बिगड़ेगा। जय- जय राजस्थान।

http://acb.rajasthan.gov.in/


1 comment:

Raj said...

हमने दसवीं कक्षा के कोर्स की हिंदी पुस्तक में पढ़ा था कि "इंजीनयरों का ठेकेदारों से वैसा ही सम्बन्ध है जैसा कि मधुमक्खियों का फूलों से" अध्यापकों के कहने पर कि यह प्रश्न परीक्षा में आएगा सो हमने रट तो लिया पास होने के लिए पर मतलब बहुत देर से समझ में आया....शुक्रिया गिरिराज जी !