Sunday, 22 May 2011

प्रमुख शासन सचिव को एमडी ने कराया इंतजार

राज्य सहकारी उपभोक्ता संघ की प्रबंध निदेशक मंजरी भांती ने  राष्ट्रीय सहकारी मसाला मेले के समापन कार्यक्रम में सहकारिता विभाग के प्रमुख सचिव तपेश पंवार को करीब 15 मिनट का इंतजार करवा दिया। पंवार ने एमडी के इस दुस्साहस पर खासी नाराजगी जाहिर की। इसके लिए एमडी को समापन कार्यक्रम में ही सार्वजनिक रूप से माफी भी मांगनी पड़ी। 
हुआ यह कि मेले के समापन समारोह के लिए 21 मई को प्रमुख सचिव को शाम 6.30 बजे का समय दिया गया था। पंवार निर्धारित समय पर कार्यक्रम में पहुंच गए। वहां वे ये देखकर हैरान रह गए कि उस समय तक तो स्टॉल धारकों और अन्य लोगों को दिए जाने वाले प्रमाण पत्र ही तैयार हो रहे थे। जब उन्होंने ज्यादा पड़ताल की तो पता चला कि उपभोक्ता संघ की एमडी खुद कुछ क्षण पहले ही मेला स्थल पर पहुंची थी। उनकी लापरवाही से कार्यक्रम करीब 20 मिनट देरी से शुरू हुआ। तब तक प्रमुख सचिव को वहां मेले में ही इंतजार करना पड़ा। 
पॉवर गेलेरी में चर्चा है कि मेले के दौरान चार दिन एमडी मंजरी खुद  वीवीआईपी बनी रहीं। जबकि सहकारिता विभाग के अतिरिक्त रजिस्ट्रार तक समय  पर मेले में पहुंचते रहे। मेले के आयोजन को लेकर भी काफी सवाल उठ रहे हैं। चर्चा है कि जब तक इस मेले के आयोजन की जिम्मेदारी सहकारिता विभाग के पास रही तब तक किसी को भी व्यवस्थाओं से कोई शिकायत नहीं रही, लेकिन पिछले तीन साल से जब से उपभोक्ता संघ ने इस आयोजन की जिम्मेदारी संभाली है, तब से मेले में अव्यवस्थाओं का ही बोलबाला ज्यादा रहा है। 
सहकारिता विभाग की पॉवर गेलेरी के रसूखदारों का मानना है कि प्रमुख सचिव तपेश पंवार की नाराजगी अभी दूर नहीं हुई है। अगले कुछ दिनों में इसकी गाज उपभोक्ता संघ के अधिकारियों पर गिर सकती है। इससे पहले भी उपभोक्ता संघ के एमडी सोमदत्त को एपीओ किया जा चुका है। जय सहकार।

1 comment:

Raj said...

उपभोक्ता संघ ने जिस क्षेत्र में व्यापारिक हाथ डाला सब में अव्यवस्था और भ्रष्टाचार का बोलबाला रहा, मसल ही क्या राज्य में चलाई जा रही दवा कि दुकानें इसका प्रमाण है !