Thursday, 14 October 2010

राजस्थान रोडवेज में छुट्टी मंजूर करने पर बबाल

राजस्थान रोडवेज में पिछले दिनों बोर्ड के सचिव की छुट्टी मंजूर करने को लेकर ऐसा बवाल मचा कि आज तक चर्चा में है। हुआ यह कि बोर्ड के सचिव को अवकाश पर जाना था, सो उन्होंने निर्धारित प्रक्रिया से अपना आवेदन भिजवा दिया। सामान्य प्रक्रिया में उनकी छुट्टी रोडवेज के एमडी डॉ. मंजीतसिंह ने मंजूर कर दी। चेयरमैन प्रदीपसेन को जब पता चला कि उनके सचिव की छुट्टी उनसे पूछे बिना ही मंजूर कर दी गई है, तो वे नाराज हो गए। नाराज भी इस कदर हुए कि बाकायदा पत्र लिखकर पूछ लिया कि बोर्ड के सचिव की छुट्टी मंजूर करने की शक्तियां किसके पास हैं। मामला यहां तक बढ़ा कि रोडवेज के रूल्स ऑफ बिजनेस तक दिखवाए गए। बाद में पता चला कि नियमों में अधिकांश अधिकार रोडवेज के एमडी को ही हैं। छुट्टियां मंजूर करने का अधिकार भी रोडवेज एमडी को ही है। इससे मामला एक बार तो शांत हो गया, लेकिन इसके बाद से रोडवेज के अधिकारियों की परेशानियां बढ़ गई हैं। चेयरमैन की मीटिंग या चेयरमैन के बुलाने की सूचना मात्र से ही उनकी त्यौरियां चढ़ने लगती हैं। कई बार मीटिंगों में भी कुछ अधिकारियों को चेयरमैन के गुस्से का कोपभाजन बनना पड़ जाता है।

No comments: