Sunday, 3 October 2010

जूनियर को बॉस बनाने से आरएएस अफसर खफा

राजस्थान प्रशासनिक सेवा के 19 अधिकारियों को हाल ही जारी की गई तबादला सूची ने प्रशासनिक हल्कों में खलबली मचा दी है। हाल ही 1 अक्टूबर को जारी तबादला सूची का सीधा असर खाद्य, नागरिक आपूर्ति विभाग पर पड़ा है। यहां पहले ही अफसरों का टोटा है और कोई अफसर आने को तैयार नहीं था। अब इस सूची में जेडीए में उपायुक्त प्रकाशचंद शर्मा को खाद्य विभाग में अतिरिक्त आयुक्त के पद पर लगा दिया है। प्रकाशचंद शर्मा मौजूदा उपायुक्त चेतन देवड़ा से 5 साल जूनियर बताए जाते हैं। इससे देवड़ा खफा हो गए और उन्होंने नाराजगी प्रकट करने के लिए लंबी छुट्टियां ले ली  हैं। हालांकि देवड़ा पहले से ही इस विभाग से निकलने की जुगत लगा रहे थे।
इधर, हाल ही नवगठित स्टेट फूड कॉरपोरेशन में जाने के लिए कुछ आरएएस अफसर भी जुगत बिठाने में लगे हैं। महाप्रबंधक पद पर पहली नियुक्ति राजसिको की जीएम रजनीसिंह को दी गई है। जबकि फूड कॉरपोरेशन के एमडी ललित मेहरा यहां गृह विभाग के उप सचिव श्रीराम चौरडिया को भी लाने की जुगत बिठा रहे हैं। बुनकर संघ में एमडी के पद पर बैठे वेदप्रकाश भी अब वहां से निकलने के लिए छटपटा रहे हैं।

वाणिज्यिक सेवा के अफसरों में भी रोष
इधर, इससे पहले 30 सितंबर को जारी तबादला सूची में 7 आरएएस अधिकारियों को वाणिज्यिक कर विभाग में उपायुक्त पदों पर लगाए जाने से वाणिज्यिक कर सेवा के अधिकारियों में असंतोष हो गया है। इन अफसरों ने दो-तीन दिन पहले ही मीटिंग करके इन अधिकारियों को लगाए जाने का कड़ा विरोध भी किया है। इन अफसरों का कहना है कि हाईकोर्ट से विभाग में 6 से ज्यादा आरएएस अफसर लगाए जाने पर रोक है। इन पदों पर विभागीय अधिकारियों को लगाए जाने की मांग है। ताजा सूची से विभाग में कुल आरएएस अफसरों की संख्या बढ़कर 9 हो गई है। वाणिज्यक कर सेवा के अफसरो ने इस संबंध में अतिरिक्त मुख्य सचिव (वित्त) को ज्ञापन देकर विरोध जताने का भी मन बना लिया है।

No comments: