Wednesday, 22 September 2010

अब चिट्ठियों से भी डरने लगी है राजस्थान पुलिस

गुजरात के सोहराबुद्दीन फर्जी मुठभेड़ मामले में राजस्थान के दो-तीन अफसर क्या फंसे अब राजस्थान पुलिस मुठभेड़ और इनकी जांच से जुड़े लोगों के नाम तथा चिट्ठियों से भी डरने लगी है। हाल ही कॉमनवेल्थ गेम्स को लेकर निकली क्वींस बेटन रिले के सिलसिले में खेल एवं युवा मामले विभाग के सचिव आईएएस रोहित कुमार सिहं ने सुरक्षा व्यवस्था को लेकर पुलिस महकमे को कुछ पत्र लिखे थे। जब ये पत्र पुलिस मुख्यालय में पहुंचे तो पत्र में ऊपर रोहित कुमार सिहं का नाम देखकर एकबारगी तो हलचल मच गई। एक आला अफसर ने तो रोहित कुमार सिहं को कह भी दिया कि आप पत्र लिखने के बजाय फोन पर ही फरमा दिया करो। पत्रों से हम लोग परेशानी महसूस करने लगते हैं। इसकी वजह ये है कि रोहित कुमार सिंह दारासिंह मुठभेड़ मामले की प्रशासनिक जांच में पुलिस की भूमिका पर सवाल खड़े कर चुके हैं। सीबीआई ने इसी रिपोर्ट को जांच का आधार बनाया है। सोहराबुद्दीन, तुलसी प्रजापत के साथ में दारासिहं उर्फ दारिया मुठभेड़ प्रकरण की आंच भी राजस्थान पुलिस तक पहुंच रही है।

No comments: