Sunday, 12 September 2010

अतिरिक्त मुख्य सचिव (गृह) बनने से खुश नहीं हैं देव

भारतीय प्रशासनिक सेवा में 1977 बैच के अधिकारी पी. के. देव अतिरिक्त मुख्य सचिव गृह, जेल, नागरिक सुरक्षा और मुख्य सतर्कता अधिकारी बनाए जाने से शायद खुश नहीं हैं। नए पद पर ज्वाइन करने के कुछ दिन बाद वे अवकाश पर चले गए। देव अपनी मित्र मंडली में कह भी चुके हैं कि इस पद के लिए मेरा चयन शायद ठीक नहीं है। इस तरह के पदों पर काम करने का मेरा ज्यादा अनुभव भी नहीं रहा है। वे मानते हैं कि गृह सचिव का पद काफी महत्वपूर्ण है, लेकिन काम उनकी रुचि का नहीं है। देव इससे पहले राजस्थान रोडवेज के सीएमडी थे। इससे पहले वे दिल्ली में पदस्थापित थे। गैलेरी में चर्चा है कि देव ज्यादा दिन इस पद पर नहीं रहेंगे। संभवत वे दिल्ली जाने की तैयारी में है। पुलिस महकमे और खबरीलालों में चर्चा है कि पहले वाले गृह सचिव से तो नए गृह सचिव ज्यादा अच्छे हैं। पुलिसिया डॉग स्क्वायड भी गलियारों में नए गृह सचिव को तलाशने में जुट गई है।

No comments: